Breaking News
Home / Political / केजरीवाल ने कहा “मोदी जी आजकल मस्जिदों में घूम रहे है”, लेकिन इसके बाद जो हुआ वो देख केजरीवाल की बोलती हो गयी बंद

केजरीवाल ने कहा “मोदी जी आजकल मस्जिदों में घूम रहे है”, लेकिन इसके बाद जो हुआ वो देख केजरीवाल की बोलती हो गयी बंद

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल अक्सर किसी ना किसी विवाद के चलते सुर्ख़ियों में आ ही जाते हैं. पीएम मोदी को हर मुद्दे पर घेरने वाले अरविन्द केजरीवाल कई बार लोगों के आक्रोश का शिकार भी हो जाते है. हाल ही पीएम मोदी के धार्मिक दौरे को लेकर की गयी टिप्पणी पर केजरीवाल को मुंहतोड़ जवाब मिला है. देखिये क्या किया केजरीवाल ने और फिर क्या हुआ उनके साथ.

Source-ABP News

दरअसल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने राहुल गांधी की मानसरोवर यात्रा और पीएम मोदी के इंदौर में दाऊदी बोहरा समुदाय के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर सोशल मीडिया पर निशाना साधा. इसके बाद लोगों ने अरविन्द केजरीवाल की उन तस्वीरों को पोस्ट कर हमला बोलना शुरू कर दिया जिसमें वे किसी मस्जिद में टोपी पहने हुए, किसी मन्दिर में माला और चंदन का लेप लगाए हुए और गुरूद्वारे में साफ़ बर्तनों को साफ़ करते दिखाई दे रहे है.

Source-The Hindu

बता दें कि राहुल गांधी और पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए अरविन्द केजरीवाल ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि “राहुल जी मंदिरों में घूम रहे हैं. मोदी जी आजकल मस्जिदों में घूम रहे हैं. राष्ट्र निर्माण मंदिर-मस्जिद से नहीं बल्कि लोगों को स्कूल, अस्पताल, सड़कें,बिजली और पानी देने से होगा. 21वीं सदी के भारत के मंदिर और मस्जिद स्कूल, उच्च शिक्षण संस्थान और विश्व स्तरीय शोध संस्थान हैं.” केजरीवाल के इस ट्वीट के सामने आने के बाद से लोगों ने उनकी ही तस्वीरों को पोस्ट करना शुरू कर दिया.

केजरीवाल की टिप्पणी पर लोगों ने क्या जवाब दिया, आप भी देखिये

बता दें कि अरविन्द केजरीवाल पीएम मोदी पर हमला बोलकर सहानुभूति हासिल करना चाहते थे, लेकिन वे भूल गये थे कि वे कई बार इस तरह मंदिर मस्जिद घूम चुके है. हालाँकि सोशल मीडिया यूजर्स ने केजरीवाल को उनकी ही तस्वीर दिखाकर उनका मुंह बंद कर दिया है. पीएम मोदी तो पहले से धार्मिक स्थलों पर जाते रहे हैं.

Subscribe To This YouTube Channel For Best Videos:

https://www.youtube.com/newindiajunction?sub_confirmation=1

News Source- Jansatta