Breaking News
Home / News / मुगल बादशाह बाबर का वंशज राजकुमार अब कूद पड़ा राम मंदिर विवाद में, कहा “अगर वहां राम मंदिर बना तो मैं…

मुगल बादशाह बाबर का वंशज राजकुमार अब कूद पड़ा राम मंदिर विवाद में, कहा “अगर वहां राम मंदिर बना तो मैं…

अयोध्या में राम मंदिर बनने का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. जहाँ एक तरफ तमाम दल राम मंदिर बनने के पक्ष में हैं तो वहीँ मुस्लिम समुदाय के कई दल इसके खिलाफ हैं और मस्जिद बनाने की मांग पर अड़े हुए हैं. इसी वजह से आपसी सहमती नहीं बन पा रही है और मामला सुप्रीम कोर्ट के हाथ में है कि अयोध्या में क्या बनना है. ऐसे में खुद को मुग़ल बादशाह बहादुर शाह जफ़र का वंशज बताने वाले याकूब हबीबुद्दीन तुसी ने राम मंदिर विवाद को लेकर ऐसा बयान दिया है कि कई सेक्यूलरों की जुबान पर ताला लग सकता है.

Image Source-The Indian wire

जानकारी के लिए बता दें पिछले समय से कई बार राम मंदिर बनने को लेकर आपसी सहमती की बात भी हुई है लेकिन कुछ मुस्लिम संगठन इसके विरोध में आ जाते हैं और यह विवाद सुलझ ही नहीं पाता है. ऐसे लोगों की जुबान पर लगाम लगाने के लिए हबीबुद्दीन ने बड़ा बयान दिया है. याकूब ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि अगर अयोध्या में राम मंदिर बनता है तो इससे उन्हें कोई आपत्ति नहीं है. इसी के साथ उन्होंने आगे कहा है कि अगर मंदिर बनता है तो पहली ईंट वह खुद ही रखेंगे.

Image Source-Navbharat

मुग़ल बादशाह बहादुर शाह जफ़र के वंशज हबीबुद्दीन ने आगे कहा है कि  ‘बाबर ने हुमायूं को लिखा था कि उनके कमांडर मीर बाकी ने अयोध्या में जो हरकत की उससे सारे तैमूर वंश पर कलंक लग गया. बाबर ने अपनी वसीयत में यह भी लिखा कि अगर हिंदुस्तान पर शासन करना है तो 70 महंतो का एहतराम करो, मंदिरों की हिफाजत करो और एकसमान न्याय करो. बाबर की वसीयत में ही स्पष्ट है कि मुगलों ने किसी धर्म को कभी हर्ट नहीं किया. मीर बाकी ने जो किया, उसके लिए हमने सभी हिंदू लोगों से माफी भी मांगी है.’

देखें वीडियो:

गौरतलब है कि हबीबुद्दीन ने ये बड़ा बयान देकर बता दिया है कि अयोध्या में राम मंदिर ही बनना चाहिए. इतना ही नहीं हबीबुद्दीन ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और ओवैसी पर भी निशाना साधा है.

Image Source-Twitter

ओवैसी पर निशाना साधते हुए हबीबुद्दीन ने कहा है कि  ‘हैदराबाद में एक जोकर है, जिसे आप सबसे बड़ा जोकर कह सकते हैं. आप देख सकते हैं कि पिछले 20 सालों में कहां से कहां पहुंच गया है. एक है मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, इन लोगों का कोई लेना-देना ही नहीं है. हमने कोर्ट से भी कहा है कि हमें कोई आपत्ति नहीं है.

News Source-Navbharat