Breaking News
Home / News / एशियन्स गेम्स में मेडल जीतने वाली दिल्ली की इस बेटी ने केजरीवाल की उड़ा दी धज्जियाँ, वजह जानकर आपको भी..

एशियन्स गेम्स में मेडल जीतने वाली दिल्ली की इस बेटी ने केजरीवाल की उड़ा दी धज्जियाँ, वजह जानकर आपको भी..

एक खबर ऐसी जो केजरीवाल की बदनामी का कारण बन सकती है. खबर देश का मान बढ़ाने वाले खिलाड़ियों से जुड़ी हुई है. दरअसल एशियन्स गेम्स को बीते हुए अभी कुछ ही दिन हुए हैं, इसमें भारत का प्रदर्शन बीते 67 सालों में सबसे बेहतर रहा. अगर ऐसा हो पाया तो इसमें भारत सरकार द्वारा खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए चलाई गयी मुहिम एक अहम कारण है. जिसके देश की मोदी सरकार तारीफ की हकदार है.

केजरीवाल के सामने ही कांस्य पदक विजेता दिव्या ने जाहिर की अपनी नाराजगी (फोटो सोर्स: ABP)

केजरीवाल को खरी-खरी

जिस राज्य के खिलाड़ियों ने प्रदर्शन करके देश का नाम ऊँचा किया उस राज्य ने और बल्कि केंद्र सरकार ने भी उन सभी को पुरस्कृत और सम्मानित किया, साथ ही धनराशी देने का भी ऐलान किया. ऐसे में देश का सम्मान ऊँचा करने वाली और रेसलिंग में भारत के लिए कांस्य पदक जीतने वाली दिल्ली की रहने वाली दिव्या काकरान ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को जमकर खरी-खरी सुनाई है.

नाराज होकर दिव्या ने कहा कि..

ABP न्यूज़ से बात करते हुए दिव्या काकरान ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि, “वो और उनका परिवार दिल्ली के गोकुलपुर में तंग गलियों में दो कमरों में रहता है. तैयारी के लिए उनके पास कोई सुविधाएं नहीं है और ना ही दिल्ली सरकार की तरफ से कोई सहायता मिली.” दिव्या की तैयारियों में आ रही अड़चनों को आप इसी से समझ सकते हैं कि सुविधाओं के अभाव में दिव्या ने दिल्ली से नही यूपी से खेलना बेहतर समझा. दिव्या पहले 2011 से 2017 तक दिल्ली से खेल चुकी हैं.

कांस्य पदक जीतने के बाद दिव्या काकरान (फोटो सोर्स: Odisha News Insigh)

‘मैंने फोन भी किया था लेकिन मेरा किसी ने फोन नहीं उठाया’

रेसलर दिव्या ने केजरीवाल को खरी-खरी सुनाते हुए कहा कि, “जब मैंने कामनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीता था, तब मैने केजरीवाल जी से एशियन्स गेम्स की तैयारी के लिए मदद मांगी थी, मैंने ये बात लिखकर भी दी थी लेकिन किसी ने मुझसे बात तक करना सही नहीं समझा, फोन तक नहीं उठाया गया मेरा.”

केजरीवाल सरकार की तरफ से दिव्या को 10 लाख रुपये इनाम दिया जाना था लेकिन यह वादा अब तक पूरा नहीं हो सका है (फोटो सोर्स: दैनिक जागरण)

पीएम ने बधाई सन्देश दिया लेकिन केजरीवाल ने..

दिव्या ने हरियाणा और उत्तर प्रदेश का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां खिलाड़ियों की काफी मदद की जाती है लेकिन दिल्ली में ऐसा नहीं होता. उन्होंने कहा कि ‘जब मैंने पदक जीता तो पीएम मोदी का बधाई सन्देश आया था लेकिन केजरीवाल की तरफ से कोई सन्देश भी नहीं आया था, मदद तो दूर की बात है.’