Breaking News
Home / News / बीमारी के बाद राज्यसभा पहुंचे अरुण जेटली से जब पीएम मोदी ने हाथ मिलाना चाहा तो उन्होंने अपना हाथ आगे नहीं बढ़ाया, इसके पीछे की असली वजह ये रही !

बीमारी के बाद राज्यसभा पहुंचे अरुण जेटली से जब पीएम मोदी ने हाथ मिलाना चाहा तो उन्होंने अपना हाथ आगे नहीं बढ़ाया, इसके पीछे की असली वजह ये रही !

9 अगस्त को राज्यसभा उपसभापति का चुनाव हुआ और एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश नरायण सिंह ने विपक्ष के उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को हराकर इस चुनाव में जीत दर्ज की. नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के राज्यसभा सांसद हरिवंश नारायण सिंह को 125 वोट मिले थे तो कांग्रेस को उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को 101 वोट मिले. इस जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सत्ता पक्ष के सभी सांसद काफी ज्यादा खुश नजर आ रहे थे और चुनाव परिणाम सामने आने के बाद पीएम मोदी ने राज्यसभा के नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह के पास जाकर उनको बधाई दी.

सदन में तीन महीने बाद पहुंचे थे ये अरुण जेटली

उनको बधाई देने के बाद पीएम मोदी अपनी सीट की तरफ लौट रहे थे और इस दौरान कैमरे में दिखे वित्त मंत्री अरुण जेटली. अरुण जेटली तीन महीने के रेस्ट के बाद सदन में पहुंचे थे. दरअसल, अरुण जेटली किडनी ट्रांसप्लांट के ऑपरेशन की वजह से पिछले कई महीनों से छुट्टी पर थे और उनके वित्त मंत्रालय का कार्यभार रेल मंत्री पियुष गोयल संभाल रहे हैं.

image source: Outlook Hindi

अरुण जेटली और पीएम मोदी के बीच देखने को मिला एक दिलचस्प मामला

अरुण जेटली बहुत दिनों बाद सदन में उपस्थित थे और इस दौरान एक दिलचस्प वाकया देखने को मिला, जब पीएम मोदी जेटली से हाथ मिलाने पहुंचे. जब पीएम मोदी ने अपने हाथ आगे किए जेटली से हाथ मिलाने के लिए तो जेटली ने मुस्कुराते हुए संकेत दिया कि वो हाथ नहीं मिला सकते और उन्होंने तुरंत ही हाथ जोड़कर नमस्कार किया, जिसका जवाब पीएम मोदी ने भी दिया.

आखिर क्यों नहीं मिलाया हाथ

असल में हाल ही में किडनी ट्रांसप्लांट ऑपरेशन के बाद अरुण जेटली को खुद को काफी ज्यादा बचाकर रखना है. डॉक्टर ने जेटली से कहा है कि, वो लोगों से कम से कम मेल-जोल रखें और इस वजह से जेटली पिछले तीन महीनों से घर पर ही बैठे थे. इसी बात को ध्यान में रखते हुए राज्यसभा के सभापति और देश के उप-राष्ट्रपति ने सदन की शुरुआत में ही इस बात की चेतावनी दी थी कि, कोई भी अरुण जेटली के नजदीक ना जाए और उन्हें छूने की भी कोशिश ना करे.

तो अब आखिर लोगों को समझ आ गया होगा कि, पीएम मोदी के हाथ बढ़ाने के बाद भी अरुण जेटली ने सिर्फ हाथ जोड़कर नमस्कार क्यों किया. जेटली की बीमारी है असली वजह और उन्हें लोगों से ज्यादा मिलना-जुलना नहीं है और बस इतना ही कारण है पीएम मोदी से हाथ नहीं मिलाने का.

देखें वीडियो:-