Breaking News
Home / News / दाऊद के फोन कॉल से पीएम मोदी के बारे में हुआ हैरान कर देने वाला ख़ुलासा

दाऊद के फोन कॉल से पीएम मोदी के बारे में हुआ हैरान कर देने वाला ख़ुलासा

दाऊद इब्राहिम. दहशत की दुनिया का एक ऐसा नाम जो ना जाने कितने सालों से पुलिस और खुफ़िया एजेंसीज के साथ आँख-मिचौली का खेल खेलते जा रहा है. देश में बहुत सी सरकारें आयीं और चली गयीं लेकिन सिवाय दाऊद के ऊपर फिल्म बनने के और कुछ ख़ास हो नहीं पाया. ऐसे में अब जहाँ लोग एकतरफ बीजेपी का गुणगान करते नहीं थकते कि बीजेपी सरकार अच्छे दिन लाएगी या ला चुकी है वहीँ दूसरी तरफ दाऊद की एक फोन कॉल लीक हुई है जिससे सुनने के बाद आपको भी गहरा झटका लगेगा.

source

बताया जा रहा है कि जहाँ एक तरफ दाऊद ने देश में अपने गुर्गों के बलबूते पर अपना धंधा चमकाया हुआ है वहीँ दूसरी तरफ कहीं ना कहीं मोदी सरकार के देश में आन के बाद दाऊद के अच्छे दिन पर भी काफी गहरा झटका लगा है. मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि अबतक हिसाब ये था कि दाऊद दुबई में बैठकर आराम से हर देश में मौजूद अपने गुर्गों के जरिए अपना धंधा चला रहा था लेकिन मोदी सरकार के आने के बाद से ऐसा हो नहीं पा रहा है. जैसे ही साल 2014 में भारत में सरकार बदली और नरेंद्र मोदी पीएम बने वैसे ही शुरू हुई दाऊद के अच्छे दिनों की उलटी गिनती.

यहाँ पढ़िए वो EXCLUSIVE बातचीत जिसको सुनने के बाद मोदी सरकार ने फेल कर दिया दाऊद इब्राहिम का प्लान मुंबई.

इकबाल कास्कर- हैल्लो सलाम वालेकुम

दाऊद- वालेकुम सलाम

इकबाल- तो बस सुबह में निकलेंगे भाई

दाऊद- हां

इकबाल- सुबह में निकाह के लिए

दाऊद- कहां के लिए. अच्छा अच्छा हां ठीक है ठीक है ठीक है. मुबारक

इकबाल- जी जी. रिजवान बात करेगा

दाऊद- हां रिजवान

रिजवान- हैल्लो

दाऊद- हां रिजवान

रिजवान- हैल्लो. सलाम वालेकुम

दाऊद- सलाम वालेकुम बेटा

रिजवान- जी चाचा जान

दाऊद- सुबह जाएंगे

रिजवान- जी चाचा जान सुबह जाएंगे. उधर

दाऊद- ठीक

रिजवान- अभी 4 बजे के बाद उधर कब्रिस्तान पर उधर से नासिक के लिए जाएंगे

दाऊद- ठीक है ठीक है..माशा अल्लाह चलो बहुत मुबारक ठीक है ना. और क्या हाल. फिर चलो, फिर बाद में बात करता हूं तुमसे

रिजवान- जी जी हां हां और चाची बड़ी चाची कैसी हैं.

दाऊद- बड़ी चाची नहीं हैं. मैं बाहर हूं.

रिजवान- ओ बाहर हैं. एक मिनट मम्मी बात करेंगी

रिजवाना- सलाम वालेकुम भाई

दाऊद- सलाम वालेकुम बेटा. हां रिजवाना बहुत मुबारक तेरे को. बहुत मुबारक तुम लोगों को.

रिजवाना- जी भाई आपको भी

दाऊद- ठीक है. तुम लोग अभी सुबह निकलेंगे

रिजवाना- जी भाई सुबह निकाह के लिए वहां जाएंगे

दाऊद- ठीक है ठीक है और सब ठीक है ना.

रिजवाना- नहीं भाई. कोई भी नहीं रहा सब ऐसे ही है.

दाऊद- माशा अल्लाह. अल्लाह का शुक्र है. बुजुरमाने दिन होंगे साथ होंगे. इंशा अल्ला फिक्र नई करो

रिजवाना- भाई हसरत को.

दाऊद- हां बिल्कुल बताता हूं कौन से दिन निकाह है.

रिजवाना- कल भाई कल असर है

दाऊद- कल असर में है. 

रिजवाना- जी भाई.

दाऊद- कहां शाहजहांपुर में

रिजवाना- नहीं भाई नासिक में

दाऊद- अच्छा अच्छा. ठीक है चलो. अल्ला मुबारक करे

रिजवाना- जी भाई. आते तो फिर आप.

दाऊद- हां हां इसाह अल्लाह

रिजवाना- भाई एक मिनट

इकबाल- हैल्लो सलाम वालेकुम

दाऊद- वालेकुम सलाम

इकबाल- जी

दाऊद- चलो मुबारक इंशाह अल्लाह. चलो अल्ला ताला करम करेगा. इंशाह अल्लाह मैं हजरत को भी बोलता हूं और वहां पे दुआ करो इंशाह अल्लाह. ठीक है ना

इकबाल- जी

दाऊद- और इंशाह अल्लाह देख लो फिर मैं बोलता हूं

इकबाल- रफीक चाचा तो बुलाया हूं.

दाऊद- अच्छा किया. अच्छा किया. ठीक है ठीक है. इंशाह अल्लाह अल्ला खैर करेगा. इंशाह अल्लाह पहुंच जाओं फिर उसको फोन कर लेना आआआ वो दुबई वाले को ठीक है ना

इकबाल- जी.

दाऊद- ठीक है ठीक है. इंशाह अल्लाह फिर मैं बोलता हूं.

इकबाल- ठीक है. अल्लाह हाफिज

इस फोन कॉल का source

source

बताया जाता है दाऊद के दायें हाथ इकबाल कासकर और दाऊद की इस फोन कॉल को सुनने के बाद जाँच एजेंसी वालो का माथा ठनका था और यहाँ से मुंबई में शुरू हो रही अंडरवर्ल्ड की तैयार हो रही नई जमीन का पता चला था. इस फोन कॉल से ये भी बात निकल कर आई थी कि जहाँ कुछ समय तक दाऊद आराम से तसल्ली से फोन पर बात किया करता था वहीँ पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद इस फोन कॉल में हड़बड़ी देखने को मिली थी. ये हैरान कर देने वाली बात थी.

source

सुनिए दाऊद इब्राहिम के अच्छे दिनों की ये फोन कॉल्स.

इस फोन कॉल में यह भी पता चल रहा है कि कैसे बेधड़क दुबई में बैठे अपने गुर्गों से लोगों को समझा रहा है और एयरपोर्ट से ड्यूटी फ्री शराब लाने की बातें भी कर रहा है.

दुबई- हैल्लो सलाम वालेकुम

दाऊद- वालेकुम असलाम

दुबई- सर हुकुम

दाऊद- क्या हुआ

दुबई- अलहमदुलिल्लाह बताएं. लाउंज में हैं एयरपोर्ट पे

दाऊद- सही है. ठीक है.

दुबई- मुस्ताक भाई भी साथ हैं.

दाऊद- सही है

दुबई- तो इंशाह अल्लाह बस पहुंच रहे हैं.

दाऊद- ठीक है. वो ड्यूटी फ्री पकड़ ले

दुबई- वो हाका. फुटाने. पड़े हैं वो टानिक पड़ी है ले लिए हैं.

दाऊद- सही है

दुबई- उठा लिया मुस्ताक भाई ने

दाऊद- और, और क्या हो रहा है.

दुबई- कुछ नहीं हम लोग लाउंज में बैठे थे. फ्लाइट छोड़ी डिले है

दाऊद- अच्छा

दुबई- 40 मिनट डिले है

दाऊद- वो मुंशी जो को बोला क्या मुंशी जी को

दुबई- क्या बोलना है

दाऊद- बोलना मुंशी जी को

दुबई- ढूंढ़ना पड़ेगा एयरपोर्ट पे हूं. आगे बोलना क्या है.

दाऊद- क्या है तरीका

दुबई- समझ गया समझ गया. पहले मैं उसको ढूंढ तो लूं.

दाऊद- ढूंढ ले ढूंढ ले जब तक टाइम है तेरे पास

दुबई- ठीक है में ढूंढता हूं. ओके सलाम वालेकुम

इस फोन कॉल के सामने आने के बाद तो एक बात साफ़ हो जाती है कि मोदी सरकार के देश में आने के बाद से ही दाऊद की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है.  अबतक कराची/दुबई में बैठकर शान से अपनी हुकूमत चलाने वाले दाऊद के बुरे दिन शुरू हो गए हैं.