Breaking News
Home / News / यूपी में अवैध बुचड़खाने बंद करने के महीनों बाद सीएम योगी ने दिया बड़ा बयान, कहा-अगर बंद नहीं करता तो…

यूपी में अवैध बुचड़खाने बंद करने के महीनों बाद सीएम योगी ने दिया बड़ा बयान, कहा-अगर बंद नहीं करता तो…

साल 2014 लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के नेतृत्व में बीजेपी ने बहुमत के साथ जीत दर्ज की थी और केंद्र में सरकार बनाई थी. तब से लेकर आज तक पीएम मोदी और उनकी सरकार देश की भलाई और विकास के लिए बहुत सारे कदम उठाए हैं. गरीब और पिछड़ों की मदद करने के लिए सरकार हमेशा तैयार है और केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे विकास के कार्य को देखते हुए अब देश के लगभग-लगभग हर राज्य में बीजेपी की सरकार है और हर राज्य में विकास के कार्य बहुत ही तेजी से हो रहा है.

अगर स्लाटर हाउस बंद ना करता तो…

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में भी पिछले साल विधानसभा चुनाव हुए थे हुए थे और यूपी की जनता ने बीजेपी पर विश्वास दिखाते हुए भारी बहुमत से विजय बनाकर राज्य का कमान सौंपा. इस जीत के बाद योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किया गया और उन्होंने सीएम बनते ही कुछ ऐसे फैसले लिए जिसने हर किसी को चौंका दिया और सभी लोग उनकी तारीफ करने लगे. उन्हीं फैसलों में से एक फैसला था अवैध स्लाटर हाउस को बंद करने का.

image source: firstpost

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए एक इंटरव्यू में योगी ने कहा कि, अगर यूपी में अवैध बुचड़खाने बंद नहीं किए जाते तो मोब लिंचिंग की सबसे ज्यादा घटना उत्तर प्रदेश में होते. हालांकि, उन्होंने कहा कि, राज्य सरकार ऐसे कोई भी घटना पर सख्ती से कदम उठाने वाली है और जो भी ऐसी घटनाओं पर सम्मिलित होगा उसके खिलाफ कड़े एक्शन लिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि, चाहे देश के किसी भी राज्य में मोब लिंचिंग जैसी घटनाएं हो रही है, तो ऐसे में राज्य के सरकार को कड़े एक्शन लेने की जरुरत है. इसके साथ ही लोगों को एक-दूसरे की भावनाओं की सम्मान भी करनी चाहिए.

क्या-क्या फैसला लिया था सीएम योगी ने

जानकारी के लिए बता दें, जब सीएम योगी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर अपना कार्याभार संभाला था तो उन्होंने आते है कड़े फैसले लिए थे. जैसे अवैध स्लाटर हाउस को बंद करना, लड़कियों से छेड़छाड़ करने वाले मंचलों पर नकेल कसने के लिए एंटी रोमियों स्कवॉड का गठन करना और गंभीर अपराधियों को रोकने के  लिए राज्य की पुलिस को सख्त करना.

NEWS SOURCE: Firstpost