Breaking News
Home / Politics / पीएम मोदी ने जिस लड़की को अस्पताल में जाकर दिया था ऑटोग्राफ उस लड़की के घर पिछले 10 दिनों से…

पीएम मोदी ने जिस लड़की को अस्पताल में जाकर दिया था ऑटोग्राफ उस लड़की के घर पिछले 10 दिनों से…

पिछले दिनों पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में हुई प्रधानमंत्री मोदी की रैली में अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसका किसी को अंदेशा नही था. मिदना पुर में भारी बारिश के बीच पीएम मोदी की रैली हुई थी. इस रैली में दूर-दूर से लोग उन्हें सुनने आये थे. तभी रैली में लगाया गया टेंट तेज हवा औऱ बारिश की वजह से उखड़ गया. इस हादसे में कई लोग घायल हुए. घायलों में एक छात्रा भी शामिल थी. इसी  घायल छात्रा से मिलकर पीएम ने उसे ढॉढ़स बंधाते हुए ऑटोग्राफ दिया था. पीएम मोदी के इस ऑटोग्राफ की वजह से अब छात्रा की जिंदगी बदल गई है. आइए बताते हैं कैसे छात्रा बन गई स्टार.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मिदनापुर रैली के दौरान: (Image Source-Newshunt)

प्रधानमंत्री मोदी का ऑटोग्राफ पाकर छात्रा बनी सेलीब्रिटी

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी ने मिदना पुर टेंट हादसे में बाल-बाल बची जिस छात्रा को ऑटोग्राफ दिया था उसकी जिंदगी अब काफी बदल गई है.  घायल छात्रा रीता मुदी को पीएम ने अस्पताल पहुंच कर ऑटोग्राफ दिया था. अब इसी ऑटोग्राफ की वजह से रीता मुदी अपने गांव में सेलीब्रिटी बन गई है. पीएम मोदी का ऑटोग्राफ पाने के बाद रीता मुदी चर्चा का विषय बनी हुई है और उनके पास पिछले 10 दिनों से शादी के कई प्रस्ताव आये हैं.

अस्पताल में घायल छात्रा रीता मुदी को ऑटोग्राफ देते पीएम मोदी: (Image Source-newsapptak)

क्या हुआ था रैली में

16 जुलाई को प्रधानमंत्री मोदी के रैली में रीता अपनी मां और बहन के साथ आयी हुई थी. उनका परिवार एक टेंट के नीचे पीएम मोदी को सुन ही रहा था कि वह अचानक गिर गया. इस हादसे में रीता घायल हो गई और उसे अस्पताल ले जाया गया. रैली खत्म करने के बाद पीएम मोदी ने अस्पताल पहुंच कर लड़की का हालचाल जाना था और रीता के अनुरोध पर उसे ऑटोग्राफ भी दिया था. इसी ऑटोग्राफ ने रीता की जिंदगी में चार चांद लगा दिए हैं.

प्रधानमंत्री मोदी की रैली में टेंट अचानक ढह गया: (Image Source-Baaghi2)

रीता मुदी सेंकड ईयर की छात्रा है

रीता मुदी अभी बांकुरा के क्रिश्चियन कॉलेज में सेंकड ईयर की छात्रा है. रीता का गांव राजधानी कोलकाता से 230 किलोमीटर दूर है. शादी के प्रस्ताव पर रीता की मां ने कहा कि- ‘अभी हमारी दोनों बेटियां पढ़ना चाहती हैं इसलिए हमने शादी के प्रस्ताव को तवज्जो नही दी.’ रीता ने भी कहा कि- ‘शादी तभी होगी जब घर के लोग चाहेंगे, लेकिन मैं अभी पढ़ाई करना चाहती हूं.’

 

आपसे एक सीधा सवाल

क्या रीता जैसी लड़कियों को और सहारे और सहानुभूति की जरुरत है जिससे वह खुद को मजबूत महसूस कर सकें?

News Source-NBT