Breaking News
Home / Political / बीजेपी के खिलाफ हमेशा ज़हर उगलने वाले शत्रुघ्न सिन्हा को लेकर अनुशासन समिति ने दिया बड़ा बयान!

बीजेपी के खिलाफ हमेशा ज़हर उगलने वाले शत्रुघ्न सिन्हा को लेकर अनुशासन समिति ने दिया बड़ा बयान!

किसी भी राजनीतिक पार्टी की अपनी अनुशासन समिति होती है जो पार्टी के सदस्यों को पार्टी की गरिमा के अनुरूप उनके कार्यों पर नजर रखती है. वैसे पार्टी सदस्यों से इस बात की भी उम्मीद की जाती है कि वो पार्टी हित में ही बयान देंगे और ऐसा कोई बयान या काम नहीं करेंगे जो पार्टी की किरकिरी कराए. बीते दिनों में ऐसे कुछ नेता सामने आए हैं जो अपनी ही पार्टी के खिलाफ बोलते नजर आये हैं. ऐसे में जो नाम सबसे पहले जुबान पर आता है वो शत्रुघ्न सिन्हा, यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी जैसे लोगों का है.

Source

बता दें कि यशवंत सिन्हा भारतीय जनता पार्टी के काफी पुराने नेता हैं और अटल जी की सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं. वहीं शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी से कई सालों पहले जुड़े हुए हैं और बिहार के पटना साहिब से सांसद भी हैं, ये दोनों नेता अक्सर बीजेपी के खिलाफ अपने मुंह खोलते रहते हैं. खासकर पीएम मोदी के विरुद्ध इनके बयान देखे जाते हैं.

Source

बीजेपी की प्रशासन समिति की तरफ से इन नेताओं पर जारी हुआ बयान

इस कड़ी में एक नाम और जोड़ा जा सकता है और वो है अरुण शौरी का. ये तीनों नेता अपने बयानों और राजनीतिक गतिविधियों के लिए हमेशा चर्चा में बने रहते हैं. खासकर अगर आप शत्रुघ्न सिन्हा की बात करें तो शत्रुघ्न सिन्हा कभी लालू का बखान करते नजर आते हैं तो कभी ममता बनर्जी से मुलाकात करते हुए दिखाई देते हैं. ऐसे में अब बीजेपी की प्रशासन समिति की तरफ से इन नेताओं पर एक बयान जारी हुआ है, जो बीजेपी की परिपाटी को स्पष्ट करता है.

गणेशी लाल

अनुशासन समिति अध्यक्ष ने कहा कि..

जनसत्ता की खबर के मुताबिक बीजेपी के अनुशासन समिति के अध्यक्ष गणेशी लाल ने इस सन्दर्भ में कहा है कि “ऐसे नेताओं को खुद ही पार्टी से इस्तीफा दे देना चाहिए, उसके बाद उनकी मर्जी है, वो पार्टी के खिलाफ खूब गालियां दें लेकिन पार्टी उन्हें नहीं निकालेगी, अगर वो खुद बाहर होना चाहें तो हो सकते हैं.”

ऐसे नेता चाहते हैं कि..

दरअसल ये नेता चाहते हैं कि उन्हें पार्टी से बाहर निकाला जाये और इसका फायदा वो अपनी राजनीति के लिए करें लेकिन बीजेपी अनुशासन समिति इस बात को अच्छे से समझती है इसलिए ऐसे लोगों की चाल को कामयाब नहीं होने दे रही लेकिन समिति ने साफ़ कर दिया है कि अगर वो चाहे तो पार्टी से बाहर हो सकते हैं.